Saturday, 6 February 2016

Filled Under:

Hindi Grammar for competitive exams 2016

भाषा
हम जो कुछ भी बोलते अथवा सुनते हैं, वे अनेक प्रकार की ध्वनिया होती हैं I ध्वनियों से वर्ण बनते हैं और वर्णो से शब्द बनता हैं और शब्दों से वाक्य बनते हैं।
भाषा शब्द की उत्पत्ति संस्कृत की 'भाष' धातु से हुई  हैं जिसका अर्थ होता हैं वाणी को प्रकट करना।
हिंदी भाषा का ज्ञान प्राप्त करने के लिए व्याकरण में प्रथम वर्ण अभ्यास और वर्ण विहार किया जाता हैं।
भाषा के अंग
1. वर्ण - वर्ण या अछर भाषा की सबसे छोटी इकाई होती हैं।
2. शब्द - यह भाषा की अर्थपूर्ण इकाई हैं।  इसका निर्माण वर्णो से होता हैं।
3. वाकया - शब्दों के क्रम से वाकया बनते हैं।

छोटी सी छोटी ध्वनि जिसका खंड नहीं हो सकता, वर्ण कहलाती हैं।
जैसे - अ, आ , इ, ई, क, ख, ग , आदि। वर्णो के क्रम को वर्ण माला कहते हैं।
हिंदी वर्ण माला इस प्रकार हैं।

1.स्वर -  स्वर  11  प्रकार के होते हैं
 अ, आ, इ, ई, उ, ऊ, ए, ऐ, ओ, औ,  ॠ

2. व्यंजन -  व्यंजन 33 प्रकार के होते हैं और अलग-अलग वर्ग के होते जैसे
क वर्ग -  क् ख् ग् घ् ड्
च वर्ग - च् छ ज् झ् ञ्
ट् वर्ग - ट ठ ड ढ ण
प् वर्ग - प फ ब भ म
य र ल व।
श ष स ह।

               

4 comments: